PoetryShayari

Gulzar Shayari in Hindi and English – Best Quotes, Ghazals Collection

Gulzar Shayari in Hindi and English – Best Quotes, Ghazals Collection

If you are fan of hindi, Urdu poetry then you can’t miss Mr. Gulzar ‘s name. He is a legend and has contributed in Bollywood as well as in the world of Hindi Shayari.  We are very much sure, you will love Gulzar Shayari in Hindi and English. Here for Some of his best Poetry, Ghazals and two Liners.

 

Gulzar Shayari  Two Liners

 

आँखों से आँसुओं के मरासिम पुराने हैं
मेहमाँ ये घर में आएँ तो चुभता नहीं धुआँ

यूँ भी इक बार तो होता कि समुंदर बहता
कोई एहसास तो दरिया की अना का होता

आप के बाद हर घड़ी हम ने
आप के साथ ही गुज़ारी है

आइना देख कर तसल्ली हुई
हम को इस घर में जानता है कोई

तुम्हारी ख़ुश्क सी आँखें भली नहीं लगतीं
वो सारी चीज़ें जो तुम को रुलाएँ, भेजी हैं

मैं हर रात सारी ख्वाहिशों को खुद से पहले सुला देता,
हूँ मगर रोज़ सुबह ये मुझसे पहले जाग जाती है

 

वक़्त रहता नहीं कहीं टिक कर,
आदत इस की भी आदमी सी है।

फिर वहीं लौट के जाना होगा,
यार ने कैसी रिहाई दी है।

बहुत अंदर तक जला देती हैं,
वो शिकायते जो बया नहीं होती

कोई पुछ रहा हैं मुझसे मेरी जिंदगी की कीमत,
मुझे याद आ रहा है तेरा हल्के से मुस्कुराना।

मैं दिया हूँ! मेरी दुश्मनी तो सिर्फ अँधेरे से हैं,
हवा तो बेवजह ही मेरे खिलाफ हैं।

बिगड़ैल हैं ये यादे,
देर रात को टहलने निकलती हैं।

उसने कागज की कई कश्तिया पानी उतारी और,
ये कह के बहा दी कि समन्दर में मिलेंगे।

दिन कुछ ऐसे गुज़ारता है कोई,
जैसे एहसान उतारता है कोई।

तुम्हारी ख़ुश्क सी आँखें भली नहीं लगतीं
वो सारी चीज़ें जो तुम को रुलाएँ, भेजी हैं

हाथ छूटें भी तो रिश्ते नहीं छोड़ा करते
वक़्त की शाख़ से लम्हे नहीं तोड़ा करते

ज़मीं सा दूसरा कोई सख़ी कहाँ होगा
ज़रा सा बीज उठा ले तो पेड़ देती है


Gulzar Sad Shayari (Ghazals)

 

dard halkā hai saañs bhārī hai

jiye jaane kī rasm jaarī hai

aap ke ba.ad har ghaḌī ham ne

aap ke saath hī guzārī hai

raat ko chāñdnī to oḌhā do

din kī chādar abhī utārī hai

shāḳh par koī qahqaha to khile

kaisī chup sī chaman pe taarī hai

kal kā har vāqi.a tumhārā thā

aaj kī dāstāñ hamārī hai

 


 

Gulzar Ghazal Sham Se Aankh Mein Nami c Hai

 

shaam se aañkh meñ namī sī hai

aaj phir aap kī kamī sī hai

dafn kar do hameñ ki saañs aa.e

nabz kuchh der se thamī sī hai

kaun pathrā gayā hai āñkhoñ meñ

barf palkoñ pe kyuuñ jamī sī hai

vaqt rahtā nahīñ kahīñ Tik kar

aadat is kī bhī aadmī sī hai

aa.iye rāste alag kar leñ

ye zarūrat bhī bāhamī sī hai

 


Gulzar Shayari on Zindagi

 

zindagī yuuñ huī basar tanhā

qāfila saath aur safar tanhā

apne saa.e se chauñk jaate haiñ

umr guzrī hai is qadar tanhā

raat bhar bāteñ karte haiñ taare

raat kaaTe koī kidhar tanhā

Dūbne vaale paar utre

naqsh-e-pā apne chhoḌ kar tanhā

din guzartā nahīñ hai logoñ meñ

raat hotī nahīñ basar tanhā

ham ne darvāze tak to dekhā thā

phir na jaane ga.e kidhar tanhā

 


Gulzar Shayari on Yaadein

 

din kuchh aise guzārtā hai koī

jaise ehsāñ utārtā hai koī

dil meñ kuchh yuuñ sambhāltā huuñ ġham

jaise zevar sambhāltā hai koī

aa.ina dekh kar tasallī huī

ham ko is ghar meñ jāntā hai koī

peḌ par pak gayā hai phal shāyad

phir se patthar uchhāltā hai koī

der se gūñjte haiñ sannāTe

jaise ham ko pukārtā hai koī


Back to top button